Chandrayaan-3  की सॉफ्ट लूनर लैंडिंग : भारत की यादगार उपलब्धि

Chandrayaan-3 ने चंद्रमा पर सफल लैंडिंग हासिल की: प्रधानमंत्री मोदी ने ऐतिहासिक क्षण की सराहना की

भारत के इतिहास में दर्ज एक उल्लेखनीय उपलब्धि में, देश ने Chandrayaan-3 के माध्यम से चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफलतापूर्वक लैंडिंग करके एक अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल की है। प्रधानमंत्री मोदी ने इस उपलब्धि के लिए जिम्मेदार भारत के नागरिकों और समर्पित अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को हार्दिक बधाई दी। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि यह दिन भारत की सामूहिक स्मृति में हमेशा अंकित रहेगा।

Chandrayaan-3  की सॉफ्ट लूनर लैंडिंग : भारत की यादगार उपलब्धि

इस मिशन का अंतिम परीक्षण लैंडिंग के अंतिम चरण के दौरान सामने आया। लैंडिंग से लगभग 20 मिनट पहले, इसरो ने स्वचालित लैंडिंग अनुक्रम (एएलएस) को सक्रिय किया। इस तंत्र ने विक्रम लूनर मॉड्यूल (एलएम) को कमांड लेने, अपनी ऑनबोर्ड कम्प्यूटेशनल क्षमताओं का उपयोग करके एक अनुकूल लैंडिंग साइट का सावधानीपूर्वक चयन करने और चंद्र सतह पर एक सौम्य टचडाउन निष्पादित करने के लिए सशक्त बनाया।

मिशन के अंतिम 15 से 20 मिनट की गंभीरता को कम करके नहीं आंका जा सकता। इस चरण के दौरान, Chandrayaan-3 का विक्रम लैंडर सॉफ्ट लैंडिंग के लिए सावधानीपूर्वक सटीकता के साथ नीचे उतरा। इस महत्वपूर्ण क्षण ने पूरे भारत और दुनिया भर से लोगों की ओर से उत्कट प्रार्थनाएं कीं और सभी Chandrayaan-3 की महत्वपूर्ण लैंडिंग की सफलता के लिए आशान्वित थे।

भारत के पिछले चंद्र मिशन से सबक लेते हुए, जिसे अपने अंतिम क्षणों में असफलताओं का सामना करना पड़ा था, इसरो ने अत्यधिक सावधानी के साथ चंद्रयान -3 का रुख किया। चंद्र लैंडिंग के समापन मिनटों के दौरान अंतरिक्ष यान को उत्पन्न होने वाले पर्याप्त जोखिमों को देखते हुए, इन क्षणों को उपयुक्त रूप से “20 या 17 मिनट का तनाव” करार दिया गया है। इस पूरे चरण के दौरान, ऑपरेशन एक स्वायत्त मोड में परिवर्तित हो गया, जहां विक्रम लैंडर ने सटीक गणना किए गए अंतराल और ऊंचाई पर अपने स्वयं के इंजन लगाए।

 

Chandrayaan-3 लैंडिंग पर अपडेट: मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने इसरो की उपलब्धि की सराहना की

Chandrayaan-3 की चंद्रमा पर लैंडिंग की सफलता के बीच, भारत के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने भारत के नागरिक के रूप में अपना गहरा गर्व व्यक्त किया। उन्होंने इस महत्वपूर्ण घटना का गवाह बनाया और इसके महत्व को स्वीकार किया, क्योंकि यह भारत को उन चुनिंदा देशों के समूह में रखता है जिन्होंने विजयी रूप से चंद्र लैंडिंग पूरी की है। विशेष रूप से, भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर यह उपलब्धि हासिल करने वाला एकमात्र देश है, जिसने वैज्ञानिक अन्वेषण और खोज के लिए नए रास्ते खोले हैं।

 

मुख्य न्यायाधीश चंद्रचूड़ ने इस आयोजन की सराहना करते हुए इसे देश की प्रगति में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर बताया। उन्होंने इस ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए टीम इसरो और व्यापक वैज्ञानिक समुदाय को हार्दिक बधाई दी, जिसने पूरे देश में बहुत गर्व पैदा किया है।

Related Articles

Back to top button